Close
Uncategorized

2023 में ग्रहण कितने होंगे?

  • May 20, 2024

ग्रहण चन्द्रमा और सूर्य के बीच आने वाली ऐसी स्थिति है जब एक ग्रह दूसरे ग्रह या चन्द्रमा को ढँक लेता है। यह एक प्राकृतिक घटना है जो सौरमंडल के ग्रहों के गतिबद्धता का परिणाम है। विभिन्न ग्रहण का एक निरंतर श्रृंखला हैं और इनमें सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण शामिल हैं। 2023 में, विश्व में कुल छह ग्रहण होंगे, जिसमें चार चंद्र ग्रहण और दो सूर्य ग्रहण शामिल होंगे। यह ग्रहण विभिन्न तारीखों पर विभिन्न भूभागों में देखे जा सकते हैं।

सूर्य ग्रहण

दिनांक: 25 जनवरी 2023, ग्रहण की धरोहर: पूर्ण
- यह पहला सूर्य ग्रहण होगा जो 2023 में देखा जा सकेगा।

चंद्र ग्रहण

दिनांक: 16 जुलाई 2023, ग्रहण की धरोहर: पूर्ण
- यह पहला चंद्र ग्रहण होगा जो इस वर्ष में होगा।

दिनांक: 10 जनवरी 2023, ग्रहण की धरोहर: संशोधित
- इस चंद्र ग्रहण की धरोहर संशोधित हो जाएगी लेकिन यह भी भारतीय भूभागों में देखा जा सकेगा।

दिनांक: 5 जुलाई 2023, ग्रहण की धरोहर: संशोधित
- इस चंद्र ग्रहण की धरोहर भी संशोधित होगी लेकिन यह भी भारतीय भूभागों में देखा जा सकेगा।

दिनांक: 30 नवंबर 2023, ग्रहण की धरोहर: कनिष्ठ
- यह चंद्र ग्रहण विभिन्न भूभागों में कनिष्ठ श्रेणी में हो सकता है।

ग्रहण देखने के लिए उपयुक्त समय

  • इन ग्रहणों को देखने के लिए उपयुक्त क्षेत्रों का चुनाव करें।
  • सूर्य ग्रहण को देखने के लिए उपयुक्त चश्मे का इस्तेमाल करें।
  • चंद्र ग्रहण के समय प्राणायाम और ध्यान का अभ्यास करें।

ग्रहण का महत्व

धार्मिक मान्यताएं:
- कई लोग ग्रहण के समय धार्मिक क्रियाएं अपनाते हैं।
- कुछ लोग इस समय पर पूजा-पाठ करते हैं और मंत्र जपने की प्रथा अनुसरण करते हैं।

ज्योतिष महत्व:
- ग्रहण के समय ज्योतिषाचार्यों के अनुसार मंत्रों के उच्चारण का अहम रहता है।
- यह भविष्यवाणी और व्यक्तिगत जीवन पर दोषों का पता लगाने में मदद कर सकता है।

आर्थिक दृष्टि:
- कुछ लोग इस समय पर धरोहर पुण्य कार्यों जैसे दान-पुण्य करने की प्रेरणा पाते हैं।
- यह समय धरोहर में साधु-संतों को दान देने का भी अद्वितीय अवसर प्रदान करता है।

ध्यान में रखने योग्य बातें

  1. ग्रहण के समय शुभ क्रियाएं करने चाहिए।
  2. चंद्र और सूर्य ग्रहण के समय अहिंसा और शांति का पालन करें।
  3. ग्रहण के दौरान गर्मियों में निर्धारित पानी पीना चाहिए।
  4. ग्रहण की क्रिया के समय प्रार्थना और मंत्र जप के लिए समय निकालें।

सामान्य प्रश्न

1. ग्रहण क्या है?

  • ग्रहण एक प्राकृतिक घटना है जब एक ग्रह दूसरे ग्रह या चंद्रमा को ढँक लेता है।

2. कितने प्रकार के ग्रहण होते हैं?

  • चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण दो प्रमुख प्रकार के ग्रहण होते हैं।

3. ग्रहण का महत्व क्या है?

  • ग्रहण का ज्योतिष, धर्मिक और आर्थिक दृष्टि से महत्व होता है।

4. ग्रहण के समय ध्यान रखने योग्य बातें क्या हैं?

  • ग्रहण के समय शुभ क्रियाएं करनी चाहिए और अहिंसा, शांति का पालन करना चाहिए।

5. 2023 में कितने ग्रहण होंगे?

  • 2023 में कुल छह ग्रहण होंगे, जिसमें चार चंद्र ग्रहण और दो सूर्य ग्रहण शामिल होंगे।

ज्ञान वृक्ष: ग्रहण के बारे में

ग्रहण एक अद्भुत प्राकृतिक घटना है जिसे मनन करने से हमारे मन, शरीर और आत्मा पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इस समय समर्पित करके हम अपने जीवन की मौजूदगी को समझ सकते हैं और उसे सुधारने के लिए प्रार्थना कर सकते हैं। इसलिए, ग्रहण के समय को मनन, ध्यान, और साधना का समय बनाएं और अपने आप को ऊर्जा के साथ पुनर्जीवित करें।

यही समाप्ति मुक्तम चेरी वाला दिनांक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *